यूरिनरी सिस टम

With age and time so many changes happen in our body, as if it has a laboratory of its own. For women this change is very quick and definite, specially after pregnancy. For example Hairfall, it is so common that many accept it as a norm. Symptoms whisper ‘hello, may be you have thyroid, bp, arthritis…. ‘ But gets a voice only when it screams.

Here is a small story about a woman who postpones her nature’s call for house work and suffers. Its so common that I did not name the characters.

अपनी भीगी साड़ी को चुपचाप समेटके वो कमरे में आगई। आँगन में बच्चों की आवाज़ उसे परेशान कर रही थी। ह्रदय चक्र में एक सुई सी चुभी। पलकें कई दफे फड़फड़ाने के बाद आँसू संभलगए लेकिंग रुंधे गले के भंवर को निगलना बहुत मुश्किल लग रहा था।

“ऐसे कैसे” उसने सोचा।

बच्ची से नानी बनने के इस सफर मे कितना समय निकल गया पता ही नहीं चला। घर की रखरखाओ में खुद की देख रेख करना कोई कैसे भूल सकता है।

एक एक करके कई पल उसे याद आने लगे।

अभी कुछ दिन पेहले उसकी नींद देर से खुली थी, और एक के बाद एक सबके नाशते बनाते बनाते उसे बाथरूम जाने की फुर्सत हे नहीं मिली। लेकिन ये तो हर दिन की कहानी थी। कभी मार्किट में बाथरूम नहीं मिलते, तो कभी रोटियों से फुर्सत नहीं मिलती। उसने एहसास ही नहीं किया कि उसकी लापरवाही से वो एक नयी बीमारी का घर बन रही थी।

और आज, आज तो दीवाली थी। अब दिवाली के दिन कोई भला पडोसी को बम फोड़ने से रोक सकता है क्या? सब के साथ वो भी खड़ीं थी, फुलझड़ियां और अनार, चक्रियआं के टीम टी माते सुख में डूबी। उन्हें पता ही नहीं चला , कब पडोसी के बच्चे ने एक बेम फोड़ दिया। बम बहुत दूर था, बच्चे ने संभालके समझदारी से बम लगाया था। लेकिन ये सुख समाधी में कुछ यूँ लीन थीं की ईन्हें दायें बायें का कुछ पता न चला। ये यूँ हाकबकाईं की ईनकी साडी भीग गई। एक श राराती बच्चे ने अपनी हंसी रोकी और वो चुपचाप अपनी साड़ी स मेट के अ न्दर आ गई।

बुढ़ापा सबके जीवन के रिपोट कार्ड के सामान होता है। जवानी में क्या खाया, कितनी कसरत की, सब इस चलती फिरती ढांचेनुमा डिग्री में दिखता है। खुशी और दुःख चेहरे की झुर्रियों से झांकते हैं और सुकून की नींद आँखों पर लगे चश्मे से।

और इन्होंने तो अपने लिए एक नयी मार्कशीट तैयार कर ली थी। खैर, वो कपडे बदल के लेट गयीं। अब इस उम्र में कौन सी शर्म, सोचते सोचते दवाई के असर में वो सो गयीं।

………

‘डाक्टर! कोई ज़रूरत नहीं है। मै ठीक हूं,’ विज्ञानं की किताब से यूरिनरी सिस्टम रटवा दिया था बाबूजी ने, लेकिन वो टस से मस न हुयीं।

‘शर्म नहीं आती तुमको….. बच्चों के सामने ये क्या बकबकाये जा रहे हो’

लेकिन बाबूजी, बाबूजी तो बाबूजी थे ‘ वो अम्मा जी को लेके गए डॉक्टर के पास’ आखिर उनको भी उनकी गलती का एहसास था। जाने कितनी बार कभी उन्हें समय से खाना देने के लिये तो कभी सिर्फ उनके साथ के लिए अम्मा समय टाल दे ती थीं।

थो डा असर आयुर्वेदिक दवाई ने और बाकि घरवालों के प्यार ने दिखाया। लेकिन ये सब के नसीब में नहीं होता। इसलिए समय पर बाथरूम जाएं। एक रोटी बनाने के लिए आप अगर आज बाथरूम रोकेंगी तो आने वाले समय में बहुत सारी बीमारियां आएँगी। सबके साथ बाबूजी और घरवाले नहीं होते।

The statue of freedom

Despite some interesting episodes, this one came in late.

-I discovered, my kid had the power to turn our downstair’s neighbor into a monster, simply by stomping.

-Met two inspiring travellers who appeared more like saints in skiing suits.

-A father, brother and a son who wanted the world to think positively about organ donation.

-A woman who could have chosen SPF 30 with the perfect shade of foundation over road dust and icy winds…. inspired me with her simplicity and humbleness.

-I was overjoyed to find coriander in The great market hall after a search of two months. And instantly ‘I love you-ed’ the shopkeeper. Love at first bite!

-And the statue of freedom that stands upright on gellert hill in the Buda side of pest. This blog is mostly about this statue.

She is bronze and lifts up a palm feather. I always see her from the great market hall or when passing through the bridge. There is something very special about her. Just stand still or get that moment when you can see her….. only her.

You will actually feel her hair and her dress flowing with the wind.

Get the chill.

You know she looks like a sunrise to me and I can watch her for long, admiring, feeling.

It must have felt zealous, people would have cried and cheered when she was raised. I wikied, the palm leaf was not the first idea. There should have been a baby. Nevermind, the leaf has done the justice. Now she z not just a mother but a girl and a woman…. most of a man.

While most of the other statues one can find across Budapest symbolize power or grief, coz of the sufferings, people went through. She stands tall over others inspiring to rise….

‘O…………. hope is gentle as a feather, let it fly in the winds

Coz freedom, is not a matter of chance, but a consequence of blood and minds’

She is special to me coz she was raised in 1947, the year India became independent. Miracles happened at two place at the same time. Don’t call me maniac…. I am in love with a statue.

I haven’t yet clicked her so please help your self.

The good day

The little girl was very angry. She frowned and stomped every where.

Her teacher called her. “Why are you angry dear”

“My puzzle is broken,

Jimmi hit me,

And no one is playing with me.

It’s a bad day” She replied.

The teacher held her hand and told her that they will make it a good one.

“Just close your eyes and take a deep breath in……… and breath out the broken puzzles,

Take a deep breath in ………breathe out Jimmi,

Take a deep breath in…….. breathe out the playing,

Take a deep breath in…….. and breathe out the bad day”

Now  open you eyes….. Hurray it’s a new day”

A simple story to encourage meditation and Breathing and handling anger for kids. My daughter loved it.